तकनीकी विवि के रजिस्ट्रार ने मांगी घूस, एक लाख के साथ दो दलाल गिरफ्तार

hptu registrar
पांवटा साहिब में एसडीएम रहे हमीरपुर तकनीकी विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार एचएस राणा एक लाख रुपये की घूस मांगने के आरोप में फंस गए हैं। आरोप है कि स्टोन क्रशर लगाने की अनुमति के लिए फाइल पर हस्ताक्षर करने के एवज में एचएएस अफसर ने दलाल के माध्यम से रुपये मांगे थे।

बुधवार को विजिलेंस ने पांवटा में एक लाख रुपये लेते एक दलाल समेत दो को गिरफ्तार कर लिया। चंडीगढ़ में फाइल पर साइन करने वाले पूर्व एसडीएम पांवटा एवं रजिस्ट्रार राणा को भी हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।

विजिलेंस के मंडी जोन के एसपी डॉ. डीके चौधरी ने इसकी पुष्टि की है। इस संबंध में मामला विजिलेंस के हमीरपुर थाने में दर्ज कर लिया गया है।जानकारी के अनुसार शिकायतकर्ता हरियाणा के जींद के संदीप दांडा ने पांवटा में स्ट्रोन क्रशर के लिए आवेदन किया था।

विजिलेंस ने ऐसे पकड़ा मामला

उस वक्त राणा पांवटा के एसडीएम थे। विभिन्न विभागों की कमेटी ने आवेदन फाइल पर हस्ताक्षर कर दिए, लेकिन एसडीएम के साइन नहीं हो सके। इसी बीच राणा का तबादला हो गया।

इसके बाद साइन करने को आवेदक के संपर्क करने पर राणा ने उसे सुलभ अग्रवाल का नंबर देकर बात करने को कहा। अग्रवाल ने एक लाख रुपये की डिमांड रखी। इसके बाद संदीप ने विजिलेंस से एसडीएम की शिकायत कर दी।

विजिलेंस ने तीन टीमें गठित कर सोमवार का दिन पैसे देने को तय किया, लेकिन सुलभ ने खुद पैसे लेने के बजाय अपने परिचित रितेश बंसल को भेजा। ब्यूरो ने तय प्लान के हिसाब से बंसल को एक लाख रुपये के साथ रंगे हाथ पकड़ लिया।

इस बीच दूसरी टीम ने सुलभ और तीसरी टीम ने चंडीगढ़ में बैठे आरोपी एचएएस अधिकारी राणा को धर दबोचा। विजिलेंस के आईजी जेपी सिंह ने बताया कि दोनों दलाल गिरफ्तार कर लिए हैं, जबकि राणा से पूछताछ की जा रही है।

Please follow and like us:

Related posts

Leave a Comment