सेमीफाइनल में ये सबसे बड़ी गलति बनी टीम इंडिया की हार की वजह, साथ ही टूटा वर्ल्ड कप जीतने का सपना

india vs newzealand

न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल में महेंद्र सिंह धोनी को बल्लेबाजी क्रम में सातवें नंबर पर भेजने को रणनीतिक चूक कहा गया। हमारे पूर्व क्रिकेटरों सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण सहित अन्य के अनुसार भी भारत का सेमीफाइनल मात्र 18 रनो से हार जाना रणनीतिक चूक करार दिया। इस मैच में हार्दिक पंड्या और दिनेश कार्तिक को धोनी से पहले भेजने से ही शीर्ष क्रम बुरी तरह बिगड़ गया था।

वीवीएस लक्ष्मण का कहना था की धोनी को पंड्या से पहले बल्लेबाजी के लिये आना चाहिए था। धोनी को दिनेश कार्तिक से भी पहले भेजा जाना चाहिए था। विश्व कप 2011 के फाइनल की याद करें तो उसमे भी वह खुद युवराज सिंह से ऊपर चौथे नंबर पर बल्लेबाजी के लिये आये और विश्व कप जीतने में सफल रहे।

वहीँ पूर्व कप्तान गांगुली ने कहा कि केवल धोनी की बल्लेबाजी ही नहीं बल्कि सामने वाले युवा बल्लेबाजों पर उनकी शांतचितता का भी सकारात्मक प्रभाव पड़ता। और ऋषभ पंत की बात करे तो उन्होंने तो जैसे अपना विकेट इनाम में दिया जिससे कप्तान विराट कोहली भी बहुत नाराज़ दिखे। वहीँ गांगुली ने ये भी कहा की जब पंत बल्लेबाजी कर रहा था तो भारत को उस समय अनुभव की जरूरत थी, क्यूंकि अगर तब धोनी वहां होता तो वह पंत को वह शॉट नहीं खेलने देता। धोनी को ऊपरी क्रम में खेलना चाहिए था। आपको तब केवल बल्लेबाजी ही नहीं संयम की भी जरूरत पड़ती है। वह विकेटों को नहीं गिरने देता।

दिग्गज बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने भी स्वीकार किया कि कप्तान विराट कोहली ने धोनी को ऊपरी क्रम में उतारकर बाहर बड़ी गलती की। उन्होंने कहा, ‘यहां सवाल उठ सकता है कि इस तरह की विषम परिस्थिति में क्या धोनी को उनके अनुभव को देखकर उन्हें ऊपरी क्रम में नहीं भेजा जाना चाहिए था। पारी के आखिर में वह जडेजा को समझाते रहे और उन्होंने चीजों पर नियंत्रण रखा।’

Please follow and like us:
error

Related posts

Leave a Comment